धरती का सबसे पुराना जीवित जानवर 'जोनाथन' कौन है?

जोनाथन कछुआ की उम्र का अनुमान इसलिए संभव हो पाया क्योंकि रिकॉर्ड रिकार्ड्स के अनुसार वह 1882 में 'सेंट हेलेना' लाया गया था और उस वक्त वह पूरी तरह से परिपक्व (Fully Mature) था।
धरती का सबसे पुराना जीवित जानवर 'जोनाथन' कौन है?

ये बात कौन नहीं जनता कि कछुए बहुत लंबे समय तक जीवित रहते हैं। लेकिन जोनाथन, सेशेल्स का विशाल कछुआ अब तक की जानकारी के अनुसार दुनिया का सबसे पुराना ज्ञात जीवित भूमि जानवर है। दक्षिण अटलांटिक महासागर में एक ब्रिटिश प्रवासी क्षेत्र 'सेंट हेलेना' द्वीप पर रहने वाले जोनाथन ने दो विश्व युद्ध, महामंदी, घातक स्पेनिश फ्लू देखा है और अब हिंद महासागर में सेशेल्स के द्वीप पर कोरोनोवायरस को बढ़ता हुआ देख रहा है। 1882 में उसके साथ तीन अन्य कछुए थे तब उसकी उम्र 50 वर्ष थी। जोनाथन का नाम 1930 के दशक में सेंट हेलेना के गवर्नर सर स्पेंसर डेविस द्वारा रखा गया था और अब वह 189 वर्ष का है।

जोनाथन कौन है?

सेशेल्स का एक विशाल कछुआ, जोनाथन 'सेंट हेलेना' द्वीप के गवर्नर के आधिकारिक निवास 'प्लांटेशन हाउस' के मैदान में रहता है और वहां के अधिकारियों द्वारा उसकी देखभाल की जाती है। जोनाथन कछुआ की उम्र का अनुमान इसलिए संभव हो पाया क्योंकि रिकार्ड्स के अनुसार, वह 1882 में 'सेंट हेलेना' लाया गया था और उस वक्त वह पूरी तरह से परिपक्व (Fully Mature) था। 'पूरी तरह से परिपक्व' का मतलब कम से कम 50 वर्ष की उम्र से है और इस बात की पुष्टि से है कि जोनाथन निश्चित रूप से 1832 के बाद पैदा नहीं हुआ था, उससे पहले ही हुआ था।

जोनाथन का हेल्थ स्टेटस जान लीजिए

जोनाथन का नाम 'गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड' में भी शामिल किया गया है। लगभग 1832 में जन्मा कछुआ एफिल टॉवर से भी पुराना है जो 1887 में बनकर तैयार हुआ था। जोनाथन की प्रजाति का कछुआ, जो कि एल्डब्रा विशाल कछुआ की एक उप प्रजाति है, को एक समय विलुप्त माना जाता था, लेकिन बाद में IUCN के अनुसार, विश्व स्तर पर उनकी संख्या 80 दर्ज की गई थी।

यद्यपि जोनाथन ने अपने सामान्य औसत जीवनकाल 150 वर्ष को पार कर लिया है, उनके पशु चिकित्सक का कहना है कि कुछ उम्र से संबंधित समस्याओं के अलावा, कोमल जानवर अभी भी बहुत स्वस्थ है। मोतियाबिंद के कारण वह लगभग आंखों में अंधा है और शायद गंध की सभी इंद्रियों को खो चुका है, लेकिन अभी भी बहुत अच्छे सुनने के कौशल के साथ स्वस्थ है।

इतने लंबे समय तक क्यों जीते हैं कछुए?

हालांकि अभी तक कोई पुख्ता कारण या जानकारी नहीं मिल पाई है, लेकिन वैज्ञानिकों के पास कुछ सिद्धांत हैं जो कछुओं को इतने लंबे समय तक टिके रहने को परिभाषित करते हैं जबकिमनुष्य समेत अन्य जीवों का जीवन काल इनके सामने ही समाप्त हो जाता है। हालिया अधययन में कुछ ऐसे पदार्थों की जानकारी लगी थी जो कोशिका क्षति और मृत्यु का कारण बनते हैं. अध्ययन में कछुओं की विभिन्न प्रजातियों की कोशिकाओं को भी शमिल किया गया जिसमें जोनाथन की तरह एक विशाल कछुआ भी शामिल था. अध्ययन में खुलासा हुआ कि इन जानवरों में एपोप्टोसिस नामक प्रक्रिया का उपयोग करके क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को जल्दी से मारकर कोशिका क्षति के दीर्घकालिक प्रभावों से खुद को बचाने की क्षमता है, जिससे उनकी जीवन प्रत्याशा बढ़ जाती है।

जोनाथन पर वापस आते हैं,

यह विशाल कछुआ द्वीप का एकमात्र प्रसिद्ध निवासी नहीं है। सेंट हेलेना को आमतौर पर उस स्थान के रूप में जाना जाता है जहां नेपोलियन बोनापार्ट 1815 में वाटरलू की लड़ाई के बाद निर्वासन में अपने अंतिम दिनों में रहते थे।

जोनाथन एकमात्र प्रसिद्ध सुपर ओल्ड कछुआ नहीं है। 'तुई मलीला' नाम का कछुआ अब तक भूमि पर सबसे पुराने जानवर का गिनीज रिकॉर्ड रखता है, जिसकी मृत्यु 1966 में 189 वर्ष की आयु में टोंगा में हुई थी। 'अद्वैत' एक और एल्डबरा विशालकाय कछुआ था जिसकी 2006 में भारत में कोलकाता के अलीपुर जूलॉजिकल गार्डन में मृत्यु हो गई थी और कई लोगों का मानना ​​था कि वह 255 वर्ष का था, हालांकि इस बात की कोई पुष्टि नहीं है।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com