अफ़ग़ानिस्तान में भूख के कारण 10 लाख बच्चे मर सकते है: UN

सर्दियों का मौसम आ रहा है और इस ठन्डे मौसम के आने से पहले अफ़ग़ानिस्तान में भोजन खत्म होने का ख़तरा है
अफ़ग़ानिस्तान में भूख के कारण 10 लाख बच्चे मर सकते है: UN
Input- NYTNS

भीषण अत्याचार का सामना कर रहे अफ़ग़ानिस्तान के लोगों के लिए सबसे बुरी खबर तब सामने आई जब संयुक्त राष्ट्र (UN) के शीर्ष अधिकारियों ने चेतावनी दी कि सर्दियों के आगमन से पहले लाखों लोगों का भोजन समाप्त हो सकता है और यदि उनकी तत्काल जरूरतें पूरी नहीं की गईं तो दस लाख बच्चों की मौत हो सकती है।

महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने संकट की जानकारी साझा के लिए जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र के एक उच्च स्तरीय सम्मेलन का सहारा लिया, उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान के अधिग्रहण के बाद से, देश की गरीबी दर बढ़ रही है, बुनियादी सार्वजनिक सेवाएं पतन के करीब हैं। पिछले कुछ वर्षों में लड़ाई के चलते भागने के लिए मजबूर होने के बाद हजारों लोग बेघर हो चुके हैं।

महासचिव ने कहा, "दशकों के युद्ध, पीड़ा और असुरक्षा के बाद, वे शायद अपने सबसे खतरनाक समय का सामना कर रहे हैं," उन्होंने कहा कि तीन में से एक अफगान को यह नहीं पता कि उन्हें अपना अगला भोजन कहां मिलेगा। सोमवार दोपहर मीडिया से बात करते हुए, गुटेरेस ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा बैठक में अफ़ग़ान की सहायता के लिए $ 1 बिलियन से अधिक राशि का संकल्प लिया गया था। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड ने भोजन और चिकित्सा सहायता के लिए नए वित्त पोषण में $64 मिलियन का वादा किया है। डैमोकल्स की तलवार की तरह लंबे समय से देश पर मानवीय तबाही की संभावना के साथ, यह अब देश के बच्चों के लिए एक तत्काल खतरा बन गया है।

यूनिसेफ के कार्यकारी निदेशक हेनरीटा एच. फोर ने सम्मेलन में कहा, "लगभग 10 मिलियन लड़कियां और लड़के जीवित रहने के लिए मानवीय सहायता पर निर्भर हैं।" "इस साल कम से कम दस लाख बच्चे गंभीर कुपोषण से पीड़ित होंगे और इलाज के बिना मर सकते हैं।" तालिबान के देश भर में फैलने और सरकार का नियंत्रण हासिल करने से पहले ही अफगानिस्तान एक गंभीर खाद्य संकट का सामना कर रहा था क्योंकि सूखे ने देश को घेर लिया था।

विश्व खाद्य कार्यक्रम का अनुमान है कि 40 प्रतिशत फसल नष्ट हो चुकी है। गेहूं की कीमत में 25 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, और सितंबर के अंत तक सहायता एजेंसी के अपने खाद्य भंडार के समाप्त होने की संभावना जाहिर कर दी है।

जो समस्या संघर्ष से पैदा हुई वह जलवायु परिवर्तन से बदतर हो गई है। अफ़ग़ानिस्तान में जो अनिश्चितता के साथ तालिबान की चढ़ाई हुई है, कई अंतरराष्ट्रीय सहायता कार्यकर्ता सुरक्षा चिंताओं से देश छोड़कर भाग गए हैं। जो बचे हैं वे अनिश्चित हैं कि वे अपना काम जारी रख भी पाएंगे या नहीं। समिट के दौरान, संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि उसे तत्काल संकट से निपटने के लिए आपातकालीन वित्त पोषण में $ 606 मिलियन की आवश्यकता है, उन्होंने यह भी कहा कि सिर्फ पैसे से कुछ नहीं होगा।

संगठन ने तालिबान पर यह आश्वासन देने के लिए दबाव डाला है कि सहायता कर्मी अपने काम को सुरक्षित रूप से कर सकें। सभा के अंत तक, अंतर्राष्ट्रीय संकल्पों ने अनुरोधित राशि ज्यादा धन इकट्ठा कर लिया था।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com