फैमिली ट्रैवेल इंश्योरेंस पॉलिसी:  सपरिवार यात्रा के लिए बेहद जरूरी

फैमिली ट्रैवेल इंश्योरेंस पॉलिसी:  सपरिवार यात्रा के लिए बेहद जरूरी
फैमिली-ट्रैवेल-इंश्योरेंस-पॉलिसी------सपरिवार-यात्रा-के-लिए-बेहद-जरूरी

फैमिली ट्रैवेल इंश्योरेंस पॉलिसी:  सपरिवार यात्रा के लिए बेहद जरूरी

Ashish Urmaliya | The CEO Magazine

अगर आप विदेश यात्रा का प्लान बना रहे हैं, वो भी पूरे परिवार के साथ, तो 'फैमिली ट्रैवेल इश्योरेंस पॉलिसी' जरूर खरीदें।

भविष्य की जानकारी किसी को नहीं होती और किसी भी तरह की अनहोनी होने का कोई समय निर्धारित नहीं है। विदेश यात्रा के दौरान यात्रियों को कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। हो सकता है, आपकी फ्लाइट छूट जाये, आपका यात्रा के लिए जरूरी सामान खो जाये, आप अचानक से बीमार पड़ जाएं और किसी विदेशी हॉस्पिटल में भर्ती होने की नौबत आ जाये। ऐसी और भी कई अन्य तरह की विकट परिस्थितियों में  ट्रैवेल इश्योरेंस पॉलिसी एक अहम भूमिका निभाती है। यह खास पालिसी यात्रा के दौरान आकस्मिक आने वाले अतिरिक्त खर्च का वहन करती है। और आपका निजी खर्च बोझ कम हो जाता है। कुछ देशों ने तो यात्रा के लिए ट्रैवेल इश्योरेंस पॉलिसी खरीदना अनिवार्य किया हुआ है।

यह पालिसी खरीदने से पहले ये बातें जानना जरूरी- 

फैमिली ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने से पहले इन बातों को जानना है जरूरी:

पॉलिसी प्रारूप: यह पॉलिसी कई तरह की होती है, जैसे- सिंगल ट्रिप इंश्योरेंस पॉलिसी, मल्टी ट्रिप इंश्योरेंस पॉलिसी, साल भर की ट्रिप पॉलिसी, आदि। जब आप सिंगल ट्रिप पॉलिसी खरीदें तो याद रहे कि, इसकी वैलिडिटी यात्रा की कुल अवधी से अधिक हो, ताकि यह यात्रा के दौरान होने वाली देरी को भी कवर कर सके।

दूसरी बात: कोई भी ट्रैवल पॉलिसी खरीदते वक्त उसके बारे में ठीक से जांच-परख करना न भूलें। बता दें, एक सामान्य ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी के अंतर्गत फ्लाइट में देरी, पासपोर्ट खो जाना, हाइजेकिंग, एडवांस इमरजेंसी कैश, एक्सीडेंटल डेथ और असंबद्धता, सामान खो जाना आदि समस्याओं को कवर किया जाता है। इसलिए यह पॉलिसी खरीदने से पहले देख लें कि, इसमें आपको सभी बुनियादी सुविधाएं मिल रही हैं या नहीं, क्योंकि कवरेज के बेसिस पर ही पॉलिसी का प्रीमियम निर्धारित होता है।

तीसरी बात: अगर आपको पहले से ही कोई बिमारी है, तो पॉलिसी खरीदते वक्त इसकी जानकारी मुहैया करनी होगी। इस तरह की पॉलिसीस में पहले से हुई बीमारी को कवर नहीं किया जाता। (सिर्फ कुछ जानलेवा बिमारियों को छोड़ दिया जाये तो) 

क्लेम ऐसे करें:  किसी भी तरह का क्लेम करने के लिए पॉलिसी धारक को इंश्योरेंस कंपनी को जल्द से जल्द सूचित करना होता है। सूचना के बाद आपको क्लेम फॉर्म भरना होता है, और उसके साथ सभी जरूरी दस्तावेजों को भी जमा करना होता है।

पॉलिसी खरीदने के लिए यह करें:  यह ट्रेवल इंश्योरेंस पॉलिसी आप एयरलाइन बुकिंग पोर्टल से ऑनलाइन खरीद सकते हैं। पॉलिसी खरीदने से पहले, विभिन्न कंपनियों द्वारा दी जाने वाली पॉलिसी की आपस में तुलना जरूर कर लें। जो भी पालिसी आपके उद्देश्यों को पूरा करे खरीद लीजिये।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.