भारत को 2020 तक मिल जायेगा ‘डिजिटल मॉल’, खासियतें जानिए!

भारत को 2020 तक मिल जायेगा ‘डिजिटल मॉल’, खासियतें जानिए!

Ashish Urmaliya ||Pratinidhi Manthan

आजऑनलाइन शॉपिंग में लोगों के सामने जो सबसे बड़ी समस्या आ रही है वह है 'फ्रॉड्'। आजकलइंटरनेट पर ढेर सारी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियां मौजूद हैं। कंपनी छोटी हो या बड़ी ऑनलाइनखरीददार नकली प्रोडक्ट्स की डिलीवरी के चलते लगातार परेशान हो रहे हैं। लेकिन अब जल्दही ग्राहकों की इस समस्या का समाधान हो सकता है। दरअसल, 2020 में भारत को 'डिजिटल मॉलऑफ एशिया' नामक, देश का पहला डिजिटल मॉल मिलने वाला है। इस डिजिटल मॉल में आप आपनेपीसी, लैपटॉप या मोबाइल के जरिये बाकायदा घूम कर खरीददारी कर पाएंगे।  

यह काम कैसे करेगा?

यहकिसी सामान्य मॉल की तरह ही होगा। जैसे आप किसी सामान्य मॉल में जाकर घूमते हैं, किसीआउटलेट में जा कर अपना पसंदीदा प्रोडक्ट खरीदते हैं। ठीक यही प्रक्रिया अब आप ऑनलाइनतरीके से भी कर पाएंगे। कहने का मतलब, डिजिटल मॉल में भी अलग-अलग ब्रांड्स के आउटलेटहोंगे, उन आउटलेट्स में आपको एंटर करना होगा। बस आप यहां से अपने मनचाहे प्रोडक्ट कीखरीददारी आसानी से कर पाएंगे। डिजिटल माल में आपको प्रोडक्ट ट्रायल की सुविधा भी उपलब्धकराई जाएगी। जो भी पसंद आये उसका ट्रायल कर पाएंगे, हालांकि यह ट्रायल फिजिकल ट्रायलसे अलग होगा।  

इसखास डिजिटल मॉल के अपने अलग नियम कायदे होंगे। इसमें विक्रेताओं को वर्चुअल स्पेस किरायेपर उपलब्ध कराया जायेगा। साधारण तरीके से समझें तो जैसे सामान्य मॉल में दुकान लेनेके लिए ब्रांड्स को किराया देना होता है वैसे ही डिजिटल माल में भी वर्चुअल स्पेस यानीअपनी दुकान डालने के लिए किराया देना होगा। खास बात यह है कि ब्रांड्स को दुकान डालनेके लिए सिर्फ मासिक किराया देना होगा, कमीशन खोरी से निजाद मिलेगी।

भारत के साथ इन देशों में भीलांच होगा डिजिटल मॉल- 

भारतमें पहले डिजिटल मॉल की लॉन्चिंग दिल्ली-एनसीआर में होगी, अधिकतम संभावनाएं नोएडा मेंलांच होने की है। फिर इसके बाद देश के अन्य बड़े शहरों जैसे- पुणे, जयपुर, लखनऊ, भुवनेश्वर,मंगलौर, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, चंडीगढ़, जयपुर, मैसूर, कोयंबटूर, अहमदाबाद,देहरादून और लुधियाना आदि में यह मॉल लांच करने की योजना है। 2020 में भारत के अलावायह डिजिटल मॉल दक्षिण कोरिया, चीन, जापान, सिंगापुर, थाइलैंड, मलयेशिया और इंडोनेशियामें भी लॉन्‍च किया जायेगा।

Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com