मेरे नाम का इस्तेमाल दुष्प्रचार और अपने गंदे एजेंडे के लिए न करें: नीरज चोपड़ा

व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले दूसरे भारतीय बने चोपड़ा ने अपने ट्विटर हैंडल पर कहा, "मैं सभी से अनुरोध करूंगा कि कृपया मुझे और मेरी टिप्पणियों को अपने निहित स्वार्थ और प्रचार के माध्यम के रूप में इस्तेमाल न करें।"
मेरे नाम का इस्तेमाल दुष्प्रचार और अपने गंदे एजेंडे के लिए न करें: नीरज चोपड़ा
By-PTI

ओलंपिक गोल्ड मैडेलिस्ट नीरज चोपड़ा ने कहा कि वह टोक्यो खेलों के दौरान पाकिस्तानी एथलीट अरशद नदीम द्वारा अपने भाले का इस्तेमाल करने पर उनकी कमैंट्स के विवाद से आहत हैं। साथ ही उन्होंने पूरे हंगामे को "एक गंदे एजेंडे को आगे बढ़ाने के उद्देश्य" बताया। एथलेटिक्स में भारत का पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाले 23 वर्षीय सेना के जवान नीरज ने कहा कि किसी को भी उनके नाम का इस्तेमाल किसी भी विवाद को बढ़ाने के लिए नहीं करना चाहिए।

व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले दूसरे भारतीय बने चोपड़ा ने अपने ट्विटर हैंडल पर कहा, "मैं सभी से अनुरोध करूंगा कि कृपया मुझे और मेरी टिप्पणियों को अपने निहित स्वार्थ और प्रचार के माध्यम के रूप में इस्तेमाल न करें।"

"खेल हमें एक साथ रहना और एकजुट होना सिखाता है। मैं अपनी हालिया टिप्पणियों पर जनता की कुछ प्रतिक्रियाओं को देखकर बेहद निराश हूं।"

उन्होंने कहा, "अरशद नदीम ने मेरे भाले को तैयार करने के लिए इस्तेमाल किया जिसमें कुछ भी गलत नहीं था, यह नियमों के भीतर है और कृपया मेरे नाम का इस्तेमाल गंदे एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए न करें।"

चोपड़ा ने हाल ही में एक साक्षात्कार में कहा कि वह 7 अगस्त को ओलंपिक फाइनल के दौरान अपने पहले थ्रो से पहले अपने व्यक्तिगत भाले की खोज कर रहे थे, फिर उन्होंने वह भला नदीम के हाथों में पाया। नियमों के अनुसार, जब किसी प्रतियोगी द्वारा अपने उपयोग के लिए अपना भला अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत कर दिया जाता है तो फिर बाद में उस भाले का उपयोग किसी अन्य प्रतिभागी द्वारा भी किया जा सकता है। यह नियम पोल वॉल्ट को छोड़कर सभी फील्ड इवेंट में लागू होता है।

फाइनल के दौरान नॉर्डिक ब्रांड के वलहैला वर्ज़न का इस्तेमाल करने वाले नीरज ने स्पष्ट किया कि ओलिंपिक फाइनल में पांचवां स्थान प्राप्त करने वाले पाकिस्तानी एथलीट नदीम ने कुछ भी गलत नहीं किया था। चोपड़ा ने एक वीडियो में कहा, "एक विवाद (मुद्दा) सामने आया है कि मैंने फाइनल में अपने पहले थ्रो (7 अगस्त को) से पहले पाकिस्तानी खिलाड़ी अरशद नदीम से भाला लेने की बात की थी। इसे एक बड़ा विवाद बना दिया गया है।" क्लिप को उनके ट्वीट के साथ पोस्ट किया गया।

"यह एक बहुत ही सरल बात है, हम अपना व्यक्तिगत भाला (एक होल्डिंग रैक के अंदर) रखते हैं, लेकिन इसका उपयोग कोई भी कर सकता है। यह नियम है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है। मेरा भाला नदीम ने ले रखा था और अपने थ्रो की तैयारी कर रहा था। मैंने उसे अपने थ्रो के लिए भाला मुझे देने के लिए कहा।”

"मैं बहुत दुखी हूं कि मेरा नाम लेकर एक बड़ा विवाद पैदा हो गया है। हम भाला फेंकने वाले एक अच्छा रिश्ता साझा करते हैं और एक दूसरे से अच्छी तरह से बात करते हैं।" एक पूर्व कोच ने चोपड़ा के इस विचार को सराहा है।

उन्होंने पीटीआई को बताया "कोई विवाद नहीं है। ऐसा नहीं है कि आप अपना निजी भाला लाए हैं और कोई इसका इस्तेमाल नहीं कर सकता है। जब आपने इसे जमा किया है, तो अन्य भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। कोई भी प्रतिभागी किसी भी भाला का उपयोग कर सकता है जो वहां (होल्डिंग रैक में) है।"

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com