शिवराज, विजयवर्गीय के भाईचारे से मप्र में भाजपा की राजनीतिक गतिविधि बदलने के संकेत

शिवराज, विजयवर्गीय के भाईचारे से मप्र में भाजपा की राजनीतिक गतिविधि बदलने के संकेत

मध्य प्रदेश के पिछले विधान सभा चुनावों में शिवराज के नेतृत्व में भाजपा की हार, सिंधिया के पार्टी में आने के बाद फिर बनी सरकार। केंद्रीय नेतृत्व का पूर्ण समर्थन न होने बावजूद सीएम बने शिवराज। इस सब के बीच मध्य प्रदेश भाजपा के भीतर पॉवर और प्रभाव को लेकर बहुत ज्यादा हलचल देखी गई।

पिछले सप्ताह भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एक 'भुट्टा पार्टी' में सौहार्द का प्रदर्शन राज्य इकाई के भीतर गतिशीलता में एक पुनर्मूल्यांकन का संकेत हो सकता है. कुछ भाजपा नेताओं के अनुसार, ये सब तब हो रहा है जब मध्य प्रदेश में नेतृत्व में बदलाव की चर्चा अपने उफान पर है.

मध्य प्रदेश में विजयवर्गीय द्वारा आयोजित वार्षिक समारोह की पार्टी जो कि दो साल के अंतराल के बाद आयोजित की गई - यह पार्टी एक ऐसी अवधि में आयोजित की गई जिसमें दोनों नेताओं ने अपने राजनीतिक भविष्य को डामाडोल स्थिति में पाया। मार्च 2020 में ज्योतिरादित्य सिंधिया के सत्ता में आने और केंद्रीय नेतृत्व के पूर्ण समर्थन की कमी के बावजूद चौहान को सीएम के रूप में चुने जाने के चलते, मध्य प्रदेश भाजपा के भीतर प्रभाव के लिए बढ़ी हुई हलचल का गवाह रहा है।

इसके अलावा, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में अपनी नियुक्ति के बाद वी डी शर्मा के बढ़ते दबदबे और पश्चिम बंगाल में पार्टी की हार के बाद विजयवर्गीय की एमपी में वापसी ने पार्टी की राज्य इकाई के भीतर गतिशीलता को बदलने की अटकलों को जन्म दे दिया है। पिछले हफ्ते बुधवार को, जब शिवराज और कैलाश ने एक दूसरे का हाथ पकड़कर "ये दोस्ती हम नहीं तोंगे" और "हमें तुमसे प्यार कितना" गाया, यहां तक ​​​​कि विधानसभा परिसर में स्थापित एक लाइव ऑर्केस्ट्रा ने धुनों को पूरक बनाया। राज्य के कुछ भाजपा नेताओं ने कहा कि यह मप्र की आंतरिक राजनीति में एक नया गठबंधन हो सकता है।

विदित हो कि 1990 के दशक में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत करने वाले चौहान और विजयवर्गीय राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी रहे हैं।

अमित शाह के ख़ास माने जाने वाले विजयवर्गीय ने चौहान के मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान विभिन्न विभागों को संभालने के लिए मंत्री के रूप में भी काम किया। चौहान के दूसरे कार्यकाल के दौरान जैसे ही दोनों नेताओं के बीच दरार बढ़ी, विजयवर्गीय, जिनके बारे में कुछ ने कहा कि उन्हें राज्य में उचित श्रेय नहीं दिया गया था, को केंद्र में बुला लिया गया और हरियाणा का प्रभारी बना दिया गया। बाद में उन्हें पश्चिम बंगाल का प्रभारी बनाया गया था, लेकिन अब बंगाल में हार के बाद एमपी में उनकी वापसी ने राज्य की राजनीति में फेरबदल की बातचीत के लिए मंच तैयार कर दिया है।

चौहान विरोधी गुट का हिस्सा माने जाने वाले कई नेताओं और विधायकों के साथ विजयवर्गीय की बंद दरवाजे की बैठकों से भी अटकलों को हवा मिली। इनमें मंत्री नरोत्तम मिश्रा और प्रहलाद सिंह पटेल शामिल थे। लेकिन एक हफ्ते बाद, विजयवर्गीय ने इस तरह की अटकलों को "पूरी तरह से बकवास" कहकर खारिज करने की कोशिश की। नरोत्तम मिश्रा ने इसी तरह का बयान जारी किए जाने के दिन इंदौर में संवाददाताओं से कहा, "राज्य चौहान के नेतृत्व में ही चलेगा।"

अब कई लोग दोनों नेताओं द्वारा गाए गए युगल गीत को विजयवर्गीय के बड़ी खाई को पाटने के तरीके के रूप में देखते हैं। एक अन्य भाजपा नेता ने कहा, "राज्य में अपनी उपस्थिति को फिर से सही लोगों द्वारा देखे जाने का यह उनका तरीका था।" ट्विटर पर, विजयवर्गीय ने बताया कि वे और चौहान अपने दिनों में भाजपा की युवा शाखा में उस गीत को गाया करते थे।

भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने एक प्रसिद्द अंग्रेजी भाषा वाले मीडिया संस्थान को बताया, “दोनों नेताओं ने साथ में एक लंबा सफर तय किया है, एबीवीपी में छात्र नेताओं के रूप में युवा मोर्चा में जाने के लिए … वे पारिवारिक संबंध भी साझा करते हैं और अक्सर विधायकों की बैठकों में एक साथ गाते हैं। यह एक सामान्य क्षण था।" एक अन्य नेता ने कहा, "विजयवर्गीय के पास वर्तमान में कुछ ख़ास ज़िम्मेदारी भरे काम नहीं हैं, उनके पास प्रासंगिक बने रहने और सुर्खियों में रहने के अपने तरीके हैं।"

Related Stories

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com