एमटीपी एक्ट के तहत गठित जिला स्तरीय समिति की समीक्षा बैठक संपन्न

जल्द ही सुरक्षित गर्भ समापन की सेवाएं निजी अस्पतालों में भी मिलेगी-डॉ. कुरेले
एमटीपी एक्ट के तहत गठित जिला स्तरीय समिति की समीक्षा बैठक संपन्न
एमटीपी एक्ट के तहत गठित जिला स्तरीय समिति की समीक्षा बैठक संपन्न

महिलाओं को चिकित्सकीय गर्भ समापन (मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रग्नेंसी) की सुरक्षित व बेहतर सेवाएं मुहैया हो सके। इस उद्देश्य से एमटीपी एक्ट के तहत गठित जिला स्तरीय समिति की

आयोजित समीक्षा बैठक में अध्यक्षता करते हुए डॉ. आर.बी. कुरेले मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दतिया ने जिले में निजी स्वास्थ्य संस्थानों के साथ ही शासकीय स्वास्थ्य संस्थानों में एमटीपी की सेवाएं बढ़ाने की बात कही।

नोडल अधिकारी (MTP) डॉ. हेमंत मंडेलिया ने जिले की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया साथ ही आगामी प्रयासों के बारे में जानकारी दी। आईपास डब्लपमेंट फाउंडेशन भोपाल के विदिश कुलकर्णी व नैन्सी श्रीवास्तव ने एमटीपी एक्ट हुए संशोधन के बारे में व्यापक जानकारी प्रस्तुतीकरण के माध्यम से दी। जिले में सुरक्षित गर्भासमापन की सेवाएं प्रदान करने वाले संस्थानों को बढ़ाने की बात समिति सदस्य रामजीशरण राय ने कही। ताकि जरूरतमंद महिलाएं इस सेवा का लाभ उठा सकें। डॉ. मधुबाला गुप्ता समिति सदस्य ने मासिक रिपोर्टिंग की प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी।

आयोजित जिला स्तरीय बैठक समिति सदस्य डॉ. आर.एन.आर्य, डॉ. एच.एम. उज्जैनिया, डॉ. मधुबाला गुप्ता व रामजीशरण राय सामाजिक कार्यकर्ता ने उपस्थित रहकर अपने-अपने विचार व्यक्त किए। साथ ही जिले में सुरक्षित गर्भपात की सेवाओं के प्रति विभागीय अमले की क्षमतावर्धन की बात कही।

समीक्षा बैठक में जिले में संचालित अशासकीय स्वास्थ्य संस्थानों के संचालकों ने सहभागिता की। जिसमें श्रीराम राजा हॉस्पिटल से भानुप्रकाश तिवारी, श्रीरावतपुरा सरकार संस्थान से हर्षित चौहान, लाडो रतन डॉ. नीरज शर्मा, बुंदेलखंड हॉस्पिटलराजकुमार सिकरवार, श्री कृष्णा हॉस्पिटल डॉ. आदित्य कुमार, मां पीतांबरा हॉस्पिटल से डॉ. अमित कुमार आदि के संचालक उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन मीनाक्षी शर्मा M&D व आभार व्यक्त डॉ. अमित अहिरवार ने किया। उक्त जानकारी एम&डी श्रीमती मीनाक्षी शर्मा द्वारा दी गई।

सरकारी योजना

No stories found.

समाधान

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com