पर्यावरण सप्ताह के अंतर्गत वृक्षारोपण किया गया।

वृक्ष प्रकृति की अनमोल देंन है,इन्हें सुरक्षित रखे:- सुश्री गोयल
पर्यावरण सप्ताह के अंतर्गत वृक्षारोपण किया गया।
पर्यावरण सप्ताह के अंतर्गत वृक्षारोपण किया गया।

दतिया| राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं मध्य प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार एवं प्रभारी प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष महोदय श्री मधुसूदन मिश्र जी के निर्देशानुसार एवं जिला जज एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण दतिया श्री मुकेश रावत जी के मार्गदर्शन में आज दिनांक: 07 जून 2022 को राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर द्वारा दिए गए निर्देश के पालन में 05 जून से 12 जून तक पर्यावरण को संरक्षित एवं जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से पर्यावरण सप्ताह बनाये जाने का निर्णय लिया गया,इसी तारतम्य में पर्यावरण सप्ताह अंतर्गत प्रक्षारोपण कार्यक्रम एवं विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन लिटल फ्लावर स्कूल दतिया में किया गया।

सुश्री स्वाति होयल न्यायाधीश दतिया द्वारा जानकारी देते हुये बताया कि इस भीषण गर्मी का मुख्य कारण प्रकृति से छेड़छाड़ करना है,मानव अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए वृक्षो को काट देते है, जिससे ऑक्सीजन की कमी आ जाती हैं।और गर्मी अपना प्रकोप दिखाने लगती है।इसी दौरान विभिन्न तरह की पर्यावरण संबंधी गतिविधियां की जाती है, प्रकृति के प्रति सकारात्मक रवैये को लेकर लोगों को जागरूक किया जाता है।

जिससे इस पर रहने वाले जीव-जंतु, जलवायु समेत सभी चीजें प्रदूषित हो रही है। जिससे सबके अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है।विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का एकमात्र उद्देश्य है कि लोगों को इसके प्रति जागरूक करना।ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण करें ना की पेड़ों की कटाई. जिस तरह से देश में विकास हो रहा है,कंस्ट्रक्शन किए जा रहे हैं उसके बदले कई पेड़ पौधे की कटाई बड़ी मात्रा में कर दी जा रही है,ऐसे में यह जीवनदायिनी पेड़-पौधे ही अगर नहीं रहेंगे तो हम या हमारी आने वाली पीढ़ी कैसे रहेगी,ऐसे में हमें एकजूट होकर इसे गंभीरता से लेना होगा।

इस अवसर पर पंकज जड़िया,सत्येन्द्र दिसोरिया,संतोष उपाध्याय, अनुभव राय,जतेंदर सिंह ,विजय राव संत सहित जिला विधिक सेवा प्राधिकरण का स्टाफ उपस्थित रहा

सरकारी योजना

No stories found.

समाधान

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com