मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामजी माता सीता व लक्ष्मण जी की स्वरूप मैं विराजमान झांकी की वरिष्ठ समाजसेवी संदीप सरावगी ने श्रद्धा भाव से की आरती।

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामजी माता सीता व लक्ष्मण जी की स्वरूप मैं विराजमान झांकी की वरिष्ठ समाजसेवी संदीप सरावगी ने श्रद्धा भाव से की आरती।

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामजी माता सीता व लक्ष्मण जी की स्वरूप मैं विराजमान झांकी की वरिष्ठ समाजसेवी संदीप सरावगी ने श्रद्धा भाव से की आरती।

आज बस स्टैंड स्थित विशाल मेगा मार्ट के पीछे पनचक्की बाली माता मंदिर के प्रांगण में आयोजित हो रही 10 दिवसीय धर्म प्रचार रामायण रामलीला मंडल प्रयागराज द्वारा रामलीला का मंचन मैं वरिष्ठ समाजसेवी संदीप सरावगी ने भगवान के स्वरूप मैं विराजमान श्री राम,माता सीता व लक्ष्मण जी की श्रद्धा भाव से आरती की। और अपने उद्बोधन में कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने अपनी मर्यादा में रहकर जो कार्य किया व सनातन धर्म व हमारे देशवासियों के लिए प्रेरणा स्रोत है।

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने अहंकारी रावण को उसके ही घर में परास्त करके लंका पर विजय पाई थी। बुराई का अंत किया और सत्य की राह पर चलने का एक पैगाम दिया। आज हमें भी अपने देश व अपने क्षेत्र में अमन चैन के साथ बिना ऊंच-नीच भेदभाव के साथ हमें उनके पद चिन्ह पर चलना होगा।तभी हमारे क्षेत्र का देश का विकास संभव है।कार्यक्रम संयोजक तालपुरा वार्ड नंबर 2 की पार्षद जामबत्ती ने बताया कि यह मंदिर सार्वजनिक है। और प्रयागराज से पधारे इन महान विभूतियों ने अपने कला की प्रस्तुति हेतु सहयोग मांगा तो निस्वार्थ भाव से भगवान की कृपा से यह कार्यक्रम भक्ति माय प्रेम भाव से हो रहा है।

कार्यक्रम आयोजक राकेश शुक्ला,गंगा तिवारी,अंजनी द्विवेदी,महेंद्र द्विवेदी ने बताया कि प्रयागराज से 20 लोगों की कमेटी देश के कोने कोने मर जा कर धर्म का प्रचार मर्यादा पुरुषोत्तम राम की लीला का मंचन करती है। इसमें जो भी सहयोग क्षेत्रवासियों से होता है उसमें ही हमारी कमेटी संतुष्ट रहती है। और जो उद्देश्य धर्म की पताका फहराना है उसमें हम अपने कदम को बढ़ाते चल रहे हैं। इस अवसर पर संघर्ष सेवा समिति के मनोज रेजा,धर्मेंद्र खटीक,साकेत गुप्ता,विकास पिपरिया,विशाल पिपरिया,सुशांत गेडा,शिवम गुप्ता,श्याम झा,राजू सेन आदि साथ रहे।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com