छोटे कारोबारियों के लिए भगवान बन कर उभरे जैक मा!

छोटे कारोबारियों के लिए भगवान बन कर उभरे जैक मा!

छोटे कारोबारियों के लिए भगवान बन कर उभरे जैक मा

Ashish Urmaliya | The CEO Magazine

पिछले 4 सालों में जैक मा ने छोटे कारोबारियों को 2 ट्रिलियन युआन यानी करीब 20.30 लाख करोड़ का लोन दिया है।

चीन के सबसे धनी व्यक्ति और प्रचलित ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के फाउंडर व चेयरमैन जैक मा ने छोटे कारोबारियों का समय बदल दिया है। दरअसल, चार साल पहले जैक मा ने ऑनलाइन बैंक 'माई बैंक' की शुरुआत की थी, जिसके तहत अब तक यानी पिछले 4 सालों में छोटे कारोबारियों को 2 ट्रिलियन युआन यानी 290 अरब डॉलर (करीब 20.30 लाख करोड़ रुपए) का लोन दिया जा चुका है। बता दें, जैक मा दुनिया के 21वें सबसे धनी व्यक्ति हैं. ब्लूमबर्ग बिलियनर्स इंडेक्स(BBI) के मुताबिक उनकी कुल संपत्ति 41.9 अरब डॉलर यानी 2.93 लाख करोड़ रुपये की है।

मात्र 3 मिनट में मिल जाता है लोन-

माई बैंक की सबसे बड़ी खासियत यह है, कि यह छोटी कंपनी चलाने वाले या शुरू करने की इच्छा रखने वाले कारोबारियों को मात्र 3 मिनट में लोन दे देता है।

इक्छुक व्यक्ति घर बैठे अपने स्मार्टफोन के जरिये इंस्टेंट लोन ले पाता है, इसमें ह्यूमन बैंकर इन्वॉल्वमेंट जीरो है(सारा काम टेक्नोलॉजी से). एक और खास बात, इसका डिफॉल्ट रेट भी महज 1 प्रतिशत है।

करीब डेढ़ करोड़ कंपनियों को दिया जा चुका है लोन-

ब्लूमबर्ग की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, MyBank लोन देने के लिए 'रियल टाइम पेमेंट डाटा' और 'रिस्क मैनेजमेंट सिस्टम' का इस्तेमाल करता है। यह ऑनलाइन बैंक करीब 3000 मानकों का विश्लेषण करके ही लोन देता है। इसके द्वारा अब तक करीब 1.6 करोड़ छोटे कारोबारियों को लोन दिया जा चुका है।

27 साल के निचले स्तर पर है चीन की GDP ग्रोथ-

इसी वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही में चीन की GDP ग्रोथ दर पिछले 3 दशक में सबसे कम रही है। चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो (एनबीएस) द्वारा जारी किये गए आंकड़े के अनुसार, दूसरी तिमाही में चीन की जीडीपी ग्रोथ 6.2 फीसदी रही। और यह आंकड़ा चीन के लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं है। इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण चीन और अमेरिका के बीच चल रहे ट्रेड वॉर को माना जा रहा है। वैश्विक स्तर पर मांग की कमी का असर भी चीन की अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है। अर्थव्यवस्था की सुस्त रफ्तार के चलते चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग अमेरिका से व्यापारिक लड़ाई लड़ने में मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। ऐसे में किसी देसी व्यापारी का सामने आना और अपनी तरफ से अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का भरपूर प्रयास करना, तारीफे काबिल है। जो जैक मा कर रहे हैं।

ऐसा ही कोई देश हितैषी कदम भारत के भी किसी अमीर उद्योगपति को उठाना चाहिए।

Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com