आयुष्मान भारत योजना का लाभ पंजीकृत श्रमिकों को दिलायें - कलेक्टर

जिला स्तरीय क्रियान्वयन समिति की बैठक में अधिकारियों को दिए निर्देश
आयुष्मान भारत योजना का लाभ पंजीकृत श्रमिकों को दिलायें - कलेक्टर

दतिया , / नेशनल डाटाबेस ऑफ अन ओरगनाईज वर्कर जिला स्तरीय क्रियान्वयन समिति की बैठक शुक्रवार को कलेक्टर श्री संजय कुमार की अध्यक्षता में न्यू कलेक्ट्रेट में सम्पन्न हुई।बैठक में ई-श्रमपोर्टल पर श्रमिकों का पंजीयन आयुष्मान भारत योजना के तहत् श्रमिकों के आयुष्मान कार्ड, प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना की समीक्षा के साथ एमपी रोजगार पोर्टल पर किए गए पंजीयन की चर्चा की गई।बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री कमलेश भार्गव सहित संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।कलेक्टर श्री कुमार ने विन्दुवार योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि हमें पात्र एवं जरूरतमंदों को इन योजनाओं का लाभ दिलाना है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत्आयुष्मान कार्ड एक गरीब परिवार को बीमारी के उपचार में काफी मदद्गार है। एक परिवार एक वर्ष में पांच लाख रूपये तक निःशुल्क चिकित्सा सहायता स्वास्थ्य विभाग द्वारा सूचीवद्ध चिक्त्सिालयों में करा सकता है। इसकी अधिक से अधिक जानकारी श्रमिक परिवारों को विभिन्न माध्यमों से दी जाए। जिससे योजना का लाभ श्रमिक परिवार बीमारी के उपचार में ले सके। कलेक्टर ने बैठक में जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं नगरीय निकयों के मुख्य नगर पालिका अधिकारियों की अनुपस्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देश दिए कि आगामी बैठक में उक्त अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित की जाए। उनहोंने बैठक में उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिए कि हमें समाज के अंतिम व्यक्ति को ध्यान में रखकर कार्य करना हे।बैठक में बताया गया कि राज्य में संबल तथा भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल में पंजीकृत श्रमिकों का ई-श्रम पोर्टल पर पंजीयन हेतु विभिन्न माध्यम से श्रमिकों की जानकारी देना है। पंजीयन (ईकेवाईसी) की निःशुल्क सुविधा जिले में स्थित 523 सीएससी एवं 336 एमपी ऑनलाईन लोक सेवा केन्द्ररों पर उपलब्ध है। इसके लिए श्रमिकों को निर्धारित कियोस्क पर संबल या भवन संनिर्माण पंजीयन कार्ड एवं आधार कार्ड की जानकारी के साथ कार्ड लेकर पहुंचाना होगा।

सरकारी योजना

No stories found.

समाधान

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com