पहली बार: पांच महिला अधिकारियों को भारतीय सेना में कर्नल रैंक में पदोन्नति

पहले सिर्फ सेना मेडिकल कोर, जज Adv जनरल और आर्मी एजुकेशन कोर में महिला अधिकारियों के लिए इस रैंक पर पदोन्नति लागू थी।
पहली बार: पांच महिला अधिकारियों को भारतीय सेना में कर्नल रैंक में पदोन्नति

भारतीय सेना द्वारा भारतीय रक्षा सेवा में लैंगिक समानता को बढ़ावा देने की दिशा में लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि पहली बार, कोर ऑफ सिग्नल, कोर ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड मैकेनिकल इंजीनियर्स और कॉर्प्स ऑफ इंजीनियर्स के साथ सेवारत महिला अधिकारियों को कर्नल रैंक की मंजूरी दी गई है।

भारतीय सेना के एक चयन बोर्ड ने गणना योग्य सेवा के 26 साल पूरे होने के बाद पांच महिला अधिकारियों को कर्नल (टाइम स्केल) रैंक पर पदोन्नत करने का रास्ता साफ कर दिया है।

कर्नल (टाइम स्केल) रैंक के लिए चुनी गई पांच महिला अधिकारियों में कोर ऑफ सिग्नल से लेफ्टिनेंट कर्नल संगीता सरदाना, ईएमई कोर से लेफ्टिनेंट कर्नल सोनिया आनंद और लेफ्टिनेंट कर्नल नवनीत दुग्गल और कोर ऑफ इंजीनियर्स से लेफ्टिनेंट कर्नल रीनू खन्ना और लेफ्टिनेंट कर्नल रिचा सागर शामिल हैं। .

भारतीय सेना की अधिक शाखाओं में पदोन्नति के रास्ते का विस्तार महिला अधिकारियों के लिए करियर के बढ़ते अवसरों का संकेत है। भारतीय सेना की अधिकांश शाखाओं से महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के निर्णय के साथ, यह कदम एक जेंडर इक्वलिटी सेना के प्रति भारतीय सेना के दृष्टिकोण को परिभाषित करता है।

पहले, कर्नल के पद पर पदोन्नति केवल आर्मी मेडिकल कोर (एएमसी), जज एडवोकेट जनरल (जेएजी) और सेना शिक्षा कोर (एईसी) में महिला अधिकारियों के लिए लागू थी। लेकिन अब लगभग हर एक कोर में महिलाओं की पदोन्नति के रास्ते साफ़ हो गए हैं।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com