जालौन- 9 किलो ब्राउन शुगर के साथ 2 तस्कर गिरफ्तार

जालौन- 9 किलो ब्राउन शुगर के साथ 2 तस्कर गिरफ्तार
जालौन- 9 किलो ब्राउन शुगर के साथ 2 तस्कर गिरफ्तार

9 किलो ब्राउन शुगर के साथ 2 तस्कर गिरफ्तार

ट्रक की स्टेपनी में ला रहे ब्राउन शुगर

ग्वालियर से आई सेंट्रल ब्यूरो ऑफ नार्कोटिकस और आटा पुलिस को मिली सफलता

एंकर......

जालौन की आटा और मध्य प्रदेश के ग्वालियर से आई सेंट्रल ब्यूरो ऑफ नार्कोटिकस टीम को संयुक्त रूप से बड़ी कामयाबी मिली है। दोनों टीमों ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए एक ट्रक को पकड़ा है, जिसमें दोनों टीमों को ट्रकों की स्टेपनी से भारी मात्रा में ब्राउन शुगर मिला है, जो तस्करी करने के लिये सिलीगुड़ी से राजस्थान ले जाया जा रहा था, पुलिस ने ट्रक के चालक और परिचालक को हिरासत में लेकर पूंछतांछ शुरू कर दी है।

बताया गया है कि एक ट्रक RJ 08 GA 7186 जो सिलीगुड़ी से राजस्थान सामान लेकर जा रहा था, जिसकी सूचना ग्वालियर से आई सेंट्रल ब्यूरो ऑफ नार्कोटिकस टीम ने जालौन के आलाधिकारियों को दी, जिन्होंने सभी हाईवे के थानों में इसकी सूचना दी। जिसके बाद आटा थाने के प्रभारी शिवगोपाल ने अपनी टीम के साथ हाईवे पर चैकिंग अभियान चलाया। उसी दौरान यह ट्रक हाईवे से निकला, जहां पुलिस ने इस ट्रक को रोका और इसकी तलाशी ली और ट्रक की स्टेपनी को खोला तो उसमें मादक पदार्थ भरा मिला, जिसे आटा पुलिस ने पकड़ लिया और उच्चाधिकारियों और ग्वालियर से आई सेंट्रल ब्यूरो ऑफ नार्कोटिकस टीम को सूचना दी, जिस पर उच्चाधिकारी ऑयर नार्कोटेक्स टीम मौके पर पहुंची, जहां इसकी जांच की तो यह ब्राउन शुगर निकला, जिसकी मात्रा 9 किलो थी। जिसे दोनों टीमों ने तत्काल जब्त कर लिया और इस पर कार्रवाई शुरू कर दी। वही जालौन के अपर पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंह भी मौके पर पहुंचे, जिन्होंने इस मामले में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि ग्वालियर की सेंट्रल ब्यूरो ऑफ नार्कोटिकस टीम के साथ आटा पुलिस को यह कामयाबी मिली है, उन्होंने बताया कि 9 किलोग्राम ब्राउन शुगर मिला है, जिसकी कीमत अंतरराष्ट्रीय मार्केट में बहुत ज्यादा है, जिसका अभी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। फिलहाल इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है, साथ ही उनसे पूछताछ की जा रही है कि यह ब्राउन शुगर वह कहां से लेकर आ रहे थे, वहीं उन्होंने बताया कि जो ब्राउन शुगर मिला है उसे ट्रक की स्टेपनी में रखकर लाया जा रहा था।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com