बैंकर्स मानवीय दृष्टिकोण एवं सकारात्मक सोच के साथ प्रकरणों में स्वीकृति एवं वितरण की कार्यवाही - कलेक्टर

बैंकर्स मानवीय दृष्टिकोण एवं सकारात्मक सोच के साथ प्रकरणों में स्वीकृति एवं वितरण की कार्यवाही - कलेक्टर
बैंकर्स मानवीय दृष्टिकोण एवं सकारात्मक सोच के साथ प्रकरणों में स्वीकृति एवं वितरण की कार्यवाही - कलेक्टर

बैंकर्स मानवीय दृष्टिकोण एवं सकारात्मक सोच के साथ प्रकरणों में स्वीकृति एवं वितरण की कार्यवाही - कलेक्टर

दतिया/ कलेक्टर श्री संजय कुमार ने कहा कि समाज में आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्तियों की आर्थिक स्थिति को सुधारनें में बैंकों की अहम् भूमिका है। बैंकर्स शासन की अनेकों हितग्राही मूलक योजनाओं एवं कार्यक्रमों में मानवीय दृष्टिकोण एवं सकारात्मक सोच के साथ पात्र एवं जरूरतमंद हितग्राहियों के प्रकरण प्राथमिकता के आधार पर स्वीकृत एवं वितरण की कार्यवाही करें।

कलेक्टर श्री कुमार आजादी के अमृत महोत्सव के तहत् राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक, (नावार्ड) द्वारा ”एग्री क्लीनिक और एग्री बिजनैस” केन्द्र योजना के तहत् आयोजित एक दिवसीय कार्यशाल को संबोधित कर रहे थे। न्यू कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित कार्यशाला में नावार्ड के डीडीएम श्री धमेन्द्र सिंह, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक श्री वीरेन्द्र पाल सिंह सहित बैंकर्स एवं संबंधित विभागों के अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

कलेक्टर श्री कुमार ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए कहा कि शासन की विभिन्न योजनाओं में पात्र हितग्राही को लाभ दिलाकर उनकी आर्थिक स्थिति में परिवर्तन लाने में बैंकों की अहम् भूमिका है अतः सभी बैंकर्स इस बात का विशेष ध्यान दें कि किसी भी पात्र हितग्राही का बिना गुणदोष के परीक्षण किए बिना प्रकरणों को निरस्त न करें। जो प्रकरण निरस्त किए गए है। उन प्रकरणों पर पुनः परीक्षण कर पात्र एवं जरूरतमंद हितग्राहियों के प्रकरण में स्वीकृति एवं वितरण की कार्यवाही करें। किसी भी प्रकार की कमी होने पर संबंधित विभाग एवं हितग्राही से चर्चा कर उसकी पूर्ति करा ली जाए।

उन्होंने शासन की विभिन्न योजनाओं एवं कार्यक्रमों के तहत् विभागों द्वारा बैंकों को भेजे गए प्रकरणों की बैंकवार समीक्षा करते हुए कहा कि बैंकर्स अपने सामाजिक दायित्व को भी समझे और सकारात्मक सोच एवं मानवीय दृष्टिकोण को रखते हुए पात्र प्रकरणों में स्वीकृति एवं वितरण की कार्यवाही भी सुनिश्चित करे। जिससे हितग्राही स्थानीय स्तर पर ही स्वयं का स्वरोजगार स्थापित कर सकें और उसे रोजगार की तलाश में बाहर पलायन न करना पड़े। इसके लिए बैंकर्स को उनके आसपास के कृषि संबंधित क्षेत्र के शिक्षित बेरोजगारों को स्वरोजगार के माध्यम से आत्म निर्भर बनाने में सहयोग करना है। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी 2022 को वृहद पैमाने पर युवाओं को स्वरोजगार देने हेतु समारोह का आयोजन किया जायेगा। जिसमें बड़ी संख्या में युवाओं को शासन की हितग्राही एवं स्वरोगार मूलक योजनाओं के तहत् लाभान्वित किया जायेगा। जिसमें मुख्य रूप से मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना के साथ अन्य स्वरोजगारमुखी योजनाओं में प्रकरण स्वीकृत एवं वितरण की कार्यवाही शुरू कर दें। जिससे कार्यक्रम में पात्र हितग्राहियों को लाभान्वित किया जा सके। नावार्ड के डीडीएम श्री धर्मेन्द्र सिंह ने स्कीम की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि योजना के तहत् कृषि स्नातक एवं स्नातकोत्तर डिग्री धारी युवाओं के लिए 36 प्रतिशत से लेकर 44 प्रतिशत तक सब्सिटी का प्रावधान है।

ऋण संभाव्यता पुस्तिका का किया विमोचन

बैठक के दौरान कलेक्टर श्री संजय कुमार ने जिले की दो हजार 637 करोड़ की ऋण संभाव्यता योजन पुस्तक का भी विमोचन किया। इस ऋण संभाव्यता योजना में 2 हजार एक 63 करोड़ कृषि खेत्र में, एमएसएमई हेतु 327 करोड़ और 147 करोड़ का प्रावधान प्राथमिकता हेतु आकलन किया। जो पिछले वर्ष की अपेक्षा 9 प्रतिशत अधिक

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com