कोरोना वायरस से जुड़ी हर बात जानिए। कैसे फैलता है? कितना खतरनाक?

कोरोना वायरस से जुड़ी हर बात जानिए। कैसे फैलता है? कितना खतरनाक?

Ashish Urmaliya ||Pratinidhi Manthan

–चीन में कोरोना वायरस की वजह से 9 लोगों की मौत की पुष्टि कर दी गई है।

–उत्तर कोरिया ने चीन के साथ वाली सीमा को सील कर दिया है, ताकि उनके देश में इस वायरसकी एंट्री न हो सके।  

–अमेरिका में भी एक व्यक्ति इस वायरस से प्रभावित पाया गया, एयरपोर्ट पर अलर्ट जारी।

–कोरोना वायरस को लेकर भारत समेत दुनिया के कई देशों में अलर्ट जारी।  

पिछलेदो महीनों से 'कोरोना वायरस' दुनियाभर में चर्चा का विषय बना हुआ है। इस वायरस ने मेडिकलजगत में खलबली मचा दी है। वजह है, कि यह वायरस जानलेवा है और बहुत ही तेज़ी से दुनियाभरमें फैलता जा रहा है। हाल ही में चीन देश से इस वायरस के चलते 9 लोगों की मौत की खबरआई है और यह संख्या लगातार बढ़ने की संभावना है। इसके अलावा इस वायरस से प्रभावित एकमरीज अमेरिका में भी पाया गया है। और भी कई अन्य देश हैं जो इससे प्रभावित हो सकतेहैं इसलिए वे काफी सावधानियां बरत रहे हैं। एशियाई देशों में इसका बहुत ज्यादा प्रकोपदेखा जा रहा है, भारत ने भी चीन से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की मेडिकल जांच के आदेशदे रखे हैं। चीन से आने वाले सभी यात्रियों का हवाई अड्डों और बंदरगाहों पर थर्मल स्कैनरके जरिए शारीरिक परीक्षण किया जा रहा है।

आखिर क्या है ये वायरस? कितनाखतरनाक है जिसने दुनियाभर में टेंशन का माहौल बना दिया है। आइये जानते हैं…

शुरुआत कहां से हुई?

इसवायरस की शुरआत चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर से हुई है और अब तक इसी देश से इसवायरस के सबसे ज्यादा मामले सामने आये हैं। इसके अलावा थाईलैंड, सिंगापुर, जापान मेंभी इस वायरस से प्रभावित मरीज मिल रहे हैं। हाल ही, इंग्लैंड में भी एक पूरे परिवारके इस वायरस की चपेट में आने की खबर सामने आई थी।

क्या है Corona Virus?

विश्वस्वस्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, इस वायरस का संबंध समुद्री भोजन (Sea Food) से है।इसका जन्म China के वुहान शहर के एक सी-फूड बाजार से ही हुई है (ऐसा माना जा रहा है)।सबसे चिंताजनक बात यह है, कि यह वायरस न केवल इंसानों को बल्कि पशुओं को भी अपना शिकारबना रहा है।

फैलता कैसे है?

हररोज इस वायरस से जुड़ी नई-नई जानकारियां निकल कर सामने आ रही हैं। शुरुआत में कहा गया,कि यह इन्फेक्टेड सी-फ़ूड से लोगों में फ़ैल रहा है।लेकिन अब WHO ने संभावना जताई है,कि अगर किसी परिवार का एक सदस्य इस वायरस से प्रभावित है तो बहुत जल्द ही यह पूरे परिवारको अपनी चपेट में ले सकता है। और फिर अन्य लोग इसकी चपेट में आ सकते हैं। कहने का मतलब,इंसान से इंसान में भी यह वायरस बहुत जल्द ही फैलता है।

लक्षण क्या होते हैं?

इसखतरनाक वायरस से प्रभावित व्यक्ति को सबसे पहले सांस लेने में दिक्कत होती है। फिरगले में दर्द शुरू हो जाता है, जुकाम, खांसी और बुखार होने लगता है। उसके बाद यह बुखारनिमोनिया का रूप धारण कर लेता है और फिर निमोनिया के सहारे सीधा किडनी पर अटैक मारताहै। फिर समस्या लगातार बढ़ती जाती है।

इलाज?

चीनके साथ ही साथ पूरी दुनिया के बड़े-बड़े मेडिकल एक्सपर्ट इसके लिए एक असरकारर वैक्सीनतैयार करने में लगे हैं। लेकिन अब तक इस वायरस पर सीधा अटैक करने वाली कोई वैक्सीनका मार्केट में उपलब्ध नहीं हो पाई है। हालांकि लक्षणों के आधार पर डॉक्टर्स इसके ईलाजके लिए अन्य मेडिसिन का उपयोग कर रहे हैं।

इस वायरस से बचने के तरीके जाननाआपके लिए बेहद जरूरी?

भलेही सरकार की तरफ से इस वायरस से बचने के लिए कितनी भी सावधानियां बरती जा रही हों,लेकिन जैसा कि हम जानते हैं, चीन के साथ हमारा कितना ज्यादा संपर्क है, खासतौर पर व्यापारिकमामले में। और दूसरी बात चीन हमारा पड़ोसी देश है। हो सकता है, इस वायरस ने हमारे देशमें भी एंट्री मार दी हो, लेकिन हमारे यहां का मेडिकल विभाग उसका पुख्ता पता लगानेमें असमर्थ हो रहा हो। ऐसे में जरूरत है कि हम कुछ सावधानियां बरतें,

–जब तक यह वायरस जड़ से खत्म नहीं हो जाता, तब तक सी-फूड से दूरी बना कर रखें। 

–साफ-सफाई का भरपूर ख्याल रखें।

–जब भी बाहर से आएं, घर पर साबुन से हाथ जरूर धोएं। साथ ही हैंड सेनेटाइजर का लगातारप्रयोग करें।  

–पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग करने के बाद अपने हाथ धुलें या फिर सेनेटाइजर का इस्तेमालकरें। हाथों को ऐसे ही अपने चेहरे या मुंह पर न लगाएं।

–परिवार में कोई इससे प्रभावित है, तो विशेष ध्यान रखें। अपने नाक व मुंह को कवर रखें।

–उनके द्वारा इस्तेमाल किये गए बर्तनों का उपयोग ना करें।

क्या जान लेवा है?

अगरयह वायरस लंबे समय तक अपना प्रभाव बनाये रखने में सफल रहा और घातक स्तर तक पहुंच गया,तो यह जान के लिए खतरा पैदा कर सकता है।यह इस वायरस का दूसरा अटैक है और इसकी वजह सेदुनियाभर में 30 से ज्यादा मौतों की ख़बरें आ चुकी हैं।

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com