सर्दी के महीनों में बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले, देश को रहना होगा तैयार

सर्दी के महीनों में बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले, देश को रहना होगा तैयार

#CoronavirusUpdate

Ashish Urmaliya | Pratinidhi Manthan

केंद्र सरकार के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोरोना वायरस के मामले 70 लाख के पार हो गए हैं. इनमें से 9 लाख से ज्यादा केस अब भी ऐक्टिव हैं. देश में कोविड-19 के चलते अबतक 1,06,490 लोगों की मौत हुई है. कई मीडिया रिपोर्ट्स आंकड़ों के मुताबिक फ़िलहाल देश में कोरोना की रफ़्तार कम हुई है. वहीँ सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली की बात करें, तो दिल्ली में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमितों की संख्या 3 लाख के पार हो गई है. हर रोज़ 2 से 3 हजार नए केस आ रहे हैं. लेकिन  …

हालिया आई एनसीडीसी की रिपोर्ट ने शासन-प्रशासन के कान खड़े कर दिए हैं. एनसीडीसी की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक, आगामी सर्दी के मौसम में सांस की समस्याओं, बाहर से आने वाले मरीजों की बड़ी तादात और बड़े उत्सव समारोहों को ध्यान में रखते हुए, प्रतिदिन कोविड-19 के लगभग 15,000 नये मामलों के लिए दिल्ली को तैयार करने की आवश्यकता है.  रिपोर्ट में इसको लेकर आगाह किया गया है. नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल की अध्यक्षता में विशेषज्ञ समूह के मार्गदर्शन में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC) द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में दिल्ली सरकार से इसके लिए व्यवस्था करने की सिफारिश की गई है.   

हम भी इस रिपोर्ट का समर्थन करते हैं, क्योंकि यह बात पूर्व सिद्ध है कि ठंड के मौसम में कोरोना और भी खतरनाक हो जाता है. जिसका साक्षात उदाहरण इटली अमेरिका जैसे ठंडे देश हैं. NCDC  ने अपने 'कोविड-19 के नियंत्रण के लिए संशोधित रणनीति के संस्करण 3.0' में यह भी बताया कि दिल्ली में समग्र कोविड-19 मामले में मृत्यु दर 1.9 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय औसत 1.5 प्रतिशत से अधिक है. रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां तक संभव हो मृत्यु दर को कम करना महामारी के प्रबंधन के प्रमुख उद्देश्यों में से एक होना चाहिए। दिल्ली में इसकी संभावना अधिक है क्योंकि हम-आप सभी जानते हैं दिल्ली की सर्दियां कैसी होती हैं. लेकिन ऐसा नहीं है कि देश पर ठंड की वजह से कोरोना बढ़ने का असर नहीं होगा। दिल्ली की तुलना में कम रहेगा लेकिन समूचे देश में इसका भयानक असर देखने को मिलेगा.

बता दें, कि दिल्ली में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या 3 लाख के पार हो गई है. हर रोज़ लगभग 3 हजार नए मामले सामने आ रहे हैं. अब तक दिल्ली में इस कोरोना के 3 लाख 833 केस हो चुके हैं. मरीजों की संख्या एक लाख के पार पहुंचने में 126 दिन लगे थे, लेकिन फिर एक से दो लाख होने में सिर्फ 65 दिन लगे. अब महज 29 दिनों में कुल केस 3 लाख के पार हो गए हैं. वहीं, पिछले 24 घंटे में कोरोना की वजह से 37 मरीजों की जान भी गई है. अब तक कुल 5653 मरीजों की मौत इस वायरस से हो चुकी है. ठंड बढ़ते ही हालात बद्तर होते जाएंगे जिससे शासन और प्रशासन को सतर्क रहने की ज़रुरत है.

दिल्ली में कोविड का पहला मामला 2 मार्च को आया था. 6 जुलाई को संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख के पार पहुंच गई थी. 9 सितंबर को मरीजों की संख्या दो लाख के पार पहुंची और अब 8 अक्टूबर को यह संख्या तीन लाख के पार हो गई है. हालांकि, इतने ही समय में 2643 मरीज ठीक भी हुए हैं. दिल्ली में अब तक 2,72,948 कोरोना मरीज ठीक हो चुके हैं.

Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com