30 साल बाद दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेगा भारत- स्टडी

30 साल बाद दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेगा भारत- स्टडी

Ashish Urmaliya | Pratinidhi Manthan

 साल 2050 तक जापान को पीछे छोड़ते हुए भारतीय ​अर्थव्यवस्था (Indian Economy) दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगी. पहले नंबर पर अमेरिका और दूसरे नंबर पर चीन होगा फिर तीसरे स्थान पर भारत होगा. हाल ही लैंसेंट की एक मेडिकल जर्नल (Lancent Medical Journal) की एक स्टडी में इस बात की जानकारी दी गई है. इस मेडिकल जर्नल में दुनिया भर के देशों में काम करने वाली आबादी के बारे में स्टडी की गई है. बता दें, साल 2017 में भारत दुनिया की सातवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था थी. इसी तथ्य को आधार मानते हुए इस स्टडी में बताया गया है कि 2030 तक भारत दुनिया की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. साल 2030 तक भारत से आगे सिर्फ अमेरिका, चीन और जापान होंगे. वर्तमान में भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. फिलहाल फ्रांस और ब्रिटेन भारत से आगे हैं. लेकिन इस स्टडी पर एक सवालिया निशान इसलिए खड़ा होता है क्योंकि इसने भारत के 2017 के आंकड़ों को आधार बनाया जबकि कोरोना ने पूरी दुनिया के इकॉनमी समीकरण को बदल कर रख दिया है.

भारतीय सरकार ने 2047 का लगाया है अनुमान!

भारत की मौजूदा केंद्र सरकार का अनुमान भी इसी दिशा में जाता है. नीति आयोग के मौजूदा चैयरमेन राजीव कुमार (Rajiv Kumar) ने इसी साल मई के महीने में कहा था कि साल 2047 तक भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेगा. मैंने शुरुआत में कहा कि, कोरोना वायरस महामारी और दुनियाभर की अर्थव्यवस्था पर पड़ते इसके प्रभाव को देखते हुए मौजूदा अनुमान कम आशावादी दिखाई दे रहा है.

साल 2019 दिसंबर में जापान के सेंटर फॉर इकोनॉमिक रिसर्च (Center for Economic Research, Japan) ने अपनी एक रिसर्च में कहा था कि 2029 तक जापान को पछाड़ते हुए भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. हालांकि, जापान का यह अनुमान कोरोना वायरस आउटब्रेक से पहले का था इसलिए मौजूदा स्थिति में इस रिसर्च पर काम भरोसा करना ही उचित होगा. मौजूदा महामारी की वजह से यह अनुमान भी लगाया जा रहा है कि 2025 तक भारत के 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने में भी काफी देर हो सकती है.

21वीं सदी में अत्यधिक काम करने वाली आबादी के रूप में शीर्ष पर बना रहेगा भारत-

Lancet पेपर में इस बात की भी चेतावनी दी गई है कि चीन और भारत में काम करने वाली आबादी में भारी गिरावट आई है. 21वीं सदी के दौरान ही नाइजीरिया में काम करने वाली आबादी में भरी इजाफा देखने को मिलेगा. हालांकि, इसके बावजूद भी भारत काम करने वाली आबादी के मामले में शीर्ष पर होगा. रिपोर्ट में कहा गया है कि 2100 तक भारत दुनिया भर में सबसे ज्यादा काम करने वाली आबादी बना रहेगा. भारत के बाद नाइजीरिया, चीन और अमेरिका का नंबर आएगा.

Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com