7वां वेतन आयोग अपडेट: 3% DA बढ़ोतरी से पहले कर्मचारियों को ये बड़े लाभ देगी सरकार

मोदी सरकार Dearness Allowance (DA) और Dearness Relief (DR) में 3 प्रतिशत की बढ़ोतरी करने की तैयारी में है। इसका मतलब अब केंद्रीय कर्मचारियों को कुल मिलाकर 31 प्रतिशत तक डीए और डीआर मिलने लगेगा। लेकिन इस बढ़ोतरी से पहले सरकार कर्मचारियों को कुछ अन्य लाभ देने वाली है। क्या हैं वो? स्क्रॉल डाउन कर जानिए...
7वां वेतन आयोग अपडेट: 3% DA बढ़ोतरी से पहले कर्मचारियों को ये बड़े लाभ देगी सरकार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार अपने लाखों कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता (DA) और महंगाई राहत (DR) बढ़ाने की तैयारी में है। गौरतलब है कि कुछ हफ्ते पहले केंद्र ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों को डीए और डीआर की बढ़ोतरी 17 फीसदी से बढ़ाकर 28 फीसदी करने के प्रस्ताव को 1 जुलाई, 2021 से बहाल कर दिया था।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी की घोषणा करते हुए कहा, "केंद्र सरकार ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ते को 11 फीसदी बढ़ाकर 28 फीसदी करने का फैसला किया है।" यह पता चला है कि केंद्र अब डीए और डीआर में 3 प्रतिशत की वृद्धि करने की योजना बना रहा है, जिसका अर्थ है कि केंद्र सरकार के कर्मचारी और पेंशनभोगी 31 प्रतिशत तक डीए और डीआर प्राप्त कर पाएंगे।

तो आइए DA और DR वृद्धि से पहले केंद्रीय कर्मचारियों के लिए हाल ही में घोषित अन्य लाभों पर एक नज़र डाल लेते हैं...

1. सरकार ने हाउस रेंट अलाउंस (HRA) बढ़ाने का भी फैसला किया है। DA 25 प्रतिशत से अधिक हो जाने पर HRA ख़ुद ब ख़ुद बढ़ जाता है।

2. परिवार पेंशन की सीमा भी 45000 रुपये से 1.25 लाख रु. तक बढ़ा दी गई है। केंद्र सरकार ने यह फैसला मृत कर्मचारियों के परिजनों को बेहतर ढंग से सहयोग देने के लिए लिया है।

3. कुछ महीने पहले केंद्र सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को सस्ती ब्याज दरों पर ऋण उपलब्ध कराने के लिए हाउस बिल्डिंग एडवांस की शुरुआत भी की थी।

गौरतलब है कि केंद्र अपने कर्मचारियों को महंगाई भत्ता प्रदान करता है ताकि वे महंगाई से लड़ सकें। आपको बता दें, DA की गणना साल में दो बार- जनवरी और जुलाई महीने में की जाती है।

समाधान

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

सरकारी योजना

No stories found.
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com