योग दिवस 2024: श्री मंडपम, सिमरवारी, बीएचईएल झांसी में धूमधाम से मनाया गया

योग दिवस 2024: श्री मंडपम, सिमरवारी, बीएचईएल झांसी
योग दिवस 2024: श्री मंडपम, सिमरवारी, बीएचईएल झांसी

योग दिवस 2024: श्री मंडपम, सिमरवारी, बीएचईएल झांसी में धूमधाम से मनाया गया

21 जून 2024 को योग दिवस के अवसर पर झांसी के श्री मंडपम, सिमरवारी, बीएचईएल परिसर में एक विशेष योग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन "आरोग्य भारती, झांसी" के बैनर तले किया गया और इसे प्रसिद्ध योग गुरु श्रीमती प्रभा पाल के मार्गदर्शन में संपन्न किया गया। इस योग सत्र में लगभग 50 से अधिक लोगों ने भाग लिया और योग के विभिन्न आसनों का अभ्यास किया।

योग दिवस के इस आयोजन में प्रतिभागियों ने योग के महत्व और इसके स्वास्थ्य लाभों पर चर्चा की। योग गुरु श्रीमती प्रभा पाल ने विभिन्न योग आसनों का प्रदर्शन करते हुए उन्हें सही तरीके से करने की विधि सिखाई और बताया कि कैसे नियमित योग अभ्यास से मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाया जा सकता है।

श्री पूर्णानंद जी महाराज ने अपने संबोधन में कहा, "योग भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है और आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में इसे अपनाना अत्यंत महत्वपूर्ण है। आरोग्य भारती के इस प्रयास से झांसी में योग के प्रति जागरूकता बढ़ेगी और लोग स्वस्थ जीवन जीने की दिशा में प्रेरित होंगे।"

इस अवसर पर उपस्थित सभी लोगों ने संकल्प लिया कि वे अपने दैनिक जीवन में योग को शामिल करेंगे और इसे एक नियमित आदत बनाएंगे।

इस कार्यक्रम में कई लोकप्रिय हस्तियों ने भी शिरकत की, जिनमें श्री पूर्णानंद जी महाराज, श्री अरविंद पांडेय, श्रीमती राजेश्वरी पटेल, श्री रामकुमार पांडेय, श्री विपिन गुप्ता, श्री मुन्‍नालाल शर्मा, श्री पवन पांडेय और श्रीकांत पांडेय (मैनेजिंग डायरेक्टर, इंडियामंथन पब्लिकेशन्स एंड मीडिया प्रा. लि.) शामिल थे। इन प्रतिष्ठित व्यक्तियों की उपस्थिति ने कार्यक्रम की गरिमा को और भी बढ़ा दिया।

योग दिवस 2024 का यह आयोजन निश्चित रूप से झांसी के लोगों के लिए एक प्रेरणादायक और स्वास्थ्यवर्धक अनुभव रहा। आरोग्य भारती और श्रीमती प्रभा पाल के इस प्रयास की सराहना की जानी चाहिए, जिन्होंने इस कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सरकारी योजना

No stories found.

समाधान

No stories found.

कहानी सफलता की

No stories found.

रोचक जानकारी

No stories found.
logo
Pratinidhi Manthan
www.pratinidhimanthan.com